Sehwag PX
कैंसर इन्शुरन्स
  • 100+ शीर्ष इन्शुरन्स प्लान
  • 5 लाख रुपये का कवरेज @ ₹16/प्रतिदिन*
  • तुरंत पॉलिसी खरीदें

#Virukipolicy | T&C*

प्रीमियम की तुलना करें

1

2

नाम
कवर फोर
जन्म तिथि (सबसे बड़ा सदस्य)

1

2

फोन नंबर
ईमेल
शहर

आगे बढ़ कर आप हमारी T&C और गोपनीयता नीति को स्वीकार कर रहे हैं

बीमार पड़ने पर आपको जब अपनी गाढ़ी कमाई का एक बड़ा हिस्सा अस्पताल के बिल, दवाइयों और पूरी तरह से स्वस्थ होने के लिए खर्च करना पड़े तब अचानक आपको यह अहसास होता है की आपको ना सिर्फ खुद के लिए बल्कि अपने परिवार के लिए भी हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसी की जरूरत है। एक अच्छी हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसी ना सिर्फ आपको आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करती है बल्कि आपके परिवार को भी हिम्मत देती है की वह किसी भी परिस्थिति का सामना कर सकें खासकर तब जब किसी बिमारी के चलते खुद असहाय महसूस कर रहे हों।

हेल्थ इन्शुरन्स में ना केवल दवाइयों का खर्च शामिल होता है बल्कि इसमें बीमाधारक को विभिन्न प्रकार की सुविधाएँ भी मिलती हैं जैसे की मुफ्त मेडिकल जांच, और तो और बिना नगद (कैशलेस) हॉस्पिटल में भर्ती होने की सुविधा। अगर आपको यह पता है की आपकी इन्शुरन्स पॉलिसी आपको क्या सुविधाएँ देती है, तो आपका यह जानना भी बहुत जरूरी है की आपकी पॉलिसी आपको कौन-कौन सी बिमारियों में सुरक्षा और सहायता प्रदान करती है।

हालांकि हो सकता है की आपने पहले से ही कोई हेल्थ इन्शुरन्स ले रखा हो परन्तु आपकी किसी क्रिटिकल डिजीज का पता चलते ही एक पल में ना केवल यह आपको बल्कि आपका परिवार को भी अंदर से झकझोर के रख देता है। कुछ बीमारियां हमारी अनियमित दिनचर्या का नतीजा होती हैं और कुछ गंभीर बीमारयाँ एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक आनुवंशिक रूप में स्थानांनतरित हो जाती है।

कैंसर तेजी से बढ़ती हुई एक क्रिटिकल डिजीज है और लांसेट ऑन्कोलॉजी जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार भारत में हर साल लगभग 10 लाख लोगों में कैंसर का पता चलता है। कैंसर जैसी बीमारी का नाम किसी को भी तनाव देने के लिए काफी है और इससे कोई कोई फर्क नहीं पड़ता है बीमारी का यह पहला चरण है या आखिरी।

आज जब हम उन्नत तकनीक के युग में रह रहे हैं जहाँ केवल कुछ चिकित्सा जांचों के द्वारा प्रारंभिक चरण में कैंसर का पता लगाना कोई बड़ी बात नहीं है। इसका इलाज करना आसान है और एक अच्छे कैंसर इन्शुरन्स प्लान के साथ पॉलिसीधारक उपलब्ध तकनीक और महंगे उपचार का उपयोग करके जल्द से जल्द ठीक हो  सकता है। हालाँकि यह ध्यान देने की बात है की इस क्रिटिकल डिजीज के इलाज में होने वाले खर्चों की पूर्ती के लिए केवल हेल्थ इन्शुरन्स पर्याप्त नहीं है।

पॉलिसीएक्स आईआरडीए द्वारा स्वीकृत ऑनलाइन इन्शुरन्स पोर्टल है जहाँ आप विब्भिन कंपनियों के इन्शुरन्स प्लान्स की आपस में तुलना कर सकते हैं और अपनी आवश्यकताओं के अनुसार आपको और आपके परिवार को कवर देने वाली एक अच्छे प्लान का चयन कर सकते हैं। बाजार में बहुत सारी इन्शुरन्स पॉलिसी प्रदाता कंपनियां हैं जिससे आप आसानी से भ्रमित हो सकते हैं कि क्या चुना जाए और कौन सा सबसे अच्छा प्लान है।

क्योंकि कैंसर जैसी क्रिटिकल डिजीज को हल्के में नहीं लिया जा सकता है और बाजार में उपलब्ध विकल्प आपकी मुश्किलें बढ़ा सकती हैं तो आप ये कैसे निश्चित करेंगे के कौन सी इन्शुरन्स प्लान बेहतर होगा?

पॉलिसीएक्स एक बहुत अच्छा समाधान है। पॉलिसीएक्स आपको विभिन्न कम्पनियों के इन्शुरन्स पॉलिसी , इलाज में होने वाले का खर्च, अस्पताल में भर्ती होने की फीस और दवाइयों पर होने वाले खर्चों की तुलना करने में मदद करता है। कैंसर इन्शुरन्सपॉलिसी कैंसर के स्टेज पर आधारित होती है। इन्शुरन्स पॉलिसी के बिना, कैंसर के इलाज के लिए एक व्यक्ति को ना केवल अपने जीवन भर की कमाई खर्च करनी पड़ सकती है बल्कि लोन या ऋण लेने की नौबत भी आ सकती है।

इन्शुरन्स प्लान में सम्मिलित कैंसर के प्रकार

एक कैंसर इन्शुरन्स प्लान कैंसर के प्रारंभिक और प्रमुख चरणों के दौरान जरूरी पैसों का भुगतान करता है। जिसका उपयोग आप कैंसर के बेहतर इलाज में कर सकते हैं। यह आपको कीमोथेरपी, रेडिएशन, हॉस्पिटल और सर्जरी में होने वाले खर्चो में भी मदत करता है। ज्यादातर कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स सभी प्रकार की आरंभिक और बाद की अवस्था या स्टेज को कवर करती हैं।  

भारत में 2019 की टॉप कैंसर इन्शुरन्स पॉलिसी

पिछले कुछ वर्षों में कई पर्यावरण और जीवनशैली विसंगतियों के कारण कैंसर से संबंधित मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं। कैंसर एक क्रिटिकल डिजीज है और इसके लिए विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है और इसीलिए इसका इलाज भी काफी महंगा है। जिस तेजी से हेल्थ सम्बन्धी सेवाएं महंगी होती जा रही है, एक व्यक्ति जिसे कोई क्रिटिकल डिजीज हो वह आसानी से कर्ज में डूब सकता है। अतः कैंसर इन्शुरन्स पॉलिसी में निवेश करना एक स्मार्ट तरीका है क्योंकि ये जरूरत के समय में वित्तीय सहायता प्रदान करती है। अगर आपको अपने या अपने परिवार के सदस्यों के लिए एक अच्छे कैंसर इन्शुरन्स प्लान की तलाश है, तो नीचे दिए टेबल का उपयोग कर सकते हैं। भारत में इन्शुरन्स कंपनियों द्वारा वित्त वर्ष 2016-17 के लिए सबसे अधिक क्लेम सेटलमेंट के आधार पर –

भारत में उपलब्ध अग्रणी कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स की सूची-

इन्शुरन्स प्लान का नाम

प्रवेश करने की आयु

पूर्व निर्धारित राशि

पॉलिसी अवधि

आईसीआईसीआई कैंसर केयर प्लस

20 साल से 60 साल

5 लाख से 25 लाख रूपए

10 साल   

एचडीएफसी लाइफ कैंसर केयर प्लान

18 साल से 65 साल

10 लाख से 40 लाख रूपए

10 साल से 20 साल

एगॉन लाइफ ऑय कैंसर इन्शुरन्स  प्लान

10 साल से 20 साल

10 लाख से  50 लाख

न्यूनतम 5 साल और अधिकतम 70 साल

पी ऍन बी मेटलाइफ मेरा हार्ट एंड कैंसर प्लान

18 साल से 65 साल

10 लाख से 80 लाख रूपए

10 साल / 15 साल / 20 साल

बिरला सन लाइफ कैंसर शील्ड प्लान

18 साल से 65 साल

10 लाख से 50 लाख

5 साल से 20 साल

कैंसर इन्शुरन्स प्लान खरीदने के बेनिफिट्स

कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स  कैंसर के खिलाफ व्यापक सुरक्षा प्रदान करते हैं। ज्यादातर कैंसर प्लान्स 3 से 5 साल या पूरी पॉलिसी अवधि के लिए प्रीमियम में छूट प्रदान करते हैं। कुछ प्लान्स 5 साल तक की निश्चित अवधि के लिए एक नियमित आय लाभ भी देते हैं जो की एक घर के दैनिक खर्चों की पूर्ती के लिए पर्याप्त है । यह आमतौर पर बीमित राशि का 1%  मासिक हिस्सा होता है।

अधिकांश कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स  विकल्प के रूप में बीमित राशि में वृद्धि की सुविधा भी देते हैं। कैंसर इन्शुरन्स प्लान खरीदने का सबसे विशेष लाभ यह है कि बीमारी के प्रारंभिक चरण में होने का पता चलने के बाद भी कवरेज जारी रहता है। साथ ही कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स  आयकर अधिनियम की धारा 80 डी के तहत कर में भी छूट प्रदान करते हैं।

आपको कैंसर इन्शुरन्स प्लान की आवश्यकता क्यों है?

हेल्थ संबंधी बीमारियों में कैंसर को सबसे बुरी स्थिति माना जाता है। कोई भी व्यक्ति कैंसर जैसी बीमारी के चपेट में नहीं आना चाहता है क्योंकि ना सिर्फ उस व्यक्ति के लिए जिसे कैंसर है अपितु पूरे परिवार के लिए भी यह शारीरिक और मानसिक रूप से सबसे अधिक दर्दनाक समय होता है।

हर किसी को हमेशा सचेत रहने की आवश्यकता है क्योंकि ज्यादातर कैंसर आपके परिवार की स्थिति और जीवनशैली की परवाह किए बिना कभी भी प्रहार कर सकते हैं। भारत में कैंसर के मामलों में हाल में ही हुई वृद्धि भय का मुख्य कारण है। जीवन में आने वाले अप्रत्याशित हेल्थ संकटों के लिए कैंसर का कवरेज होना काफी आवश्यक और संतोषजनक है।

कैंसर इन्शुरन्स प्लान खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य कुछ बातें

किसी भी कैंसर इन्शुरन्स प्लान को लेने से पहले उस पर शोध करने की सलाह दी जाती है। इससे पहले की आप किसी विशेष कैंसर इन्शुरन्स प्लान के लिए जाने का निर्णय लें, नीचे दिए कुछ बिंदुओं पर आपको ध्यान देना चाहिए।

पर्याप्त बीमित राशि -

हम सभी जानते हैं की किसी भी प्रकार की चिकित्सा वर्ष दर वर्ष महंगी होती जा रही है। प्रायः यह समझा जाता है की प्रत्येक वर्ष चिकित्सा ​​मूल्यो में करीब 15% की वृद्धि होती है। अधिकांशतः किसी भी प्रकार के कैंसर के उपचार में काफी समय लगता है, इसलिए पर्याप्त और उच्च इन्शुरन्स राशि वाले कैंसर इन्शुरन्स प्लान का चयन करना वास्तव में उपयोगी है। यह आपको संकट के समय में पर्याप्त सहायता प्रदान कर सकता है। 

कैंसर प्लान के तहत शुल्क-

एक अच्छा प्लान कैंसर के सभी स्तरों को कवर करने वाला होनी चाहिए। एक कैंसर प्लान प्रारंभिक स्तर पर 30% और अंतिम 70% सबसे महत्वपूर्ण चरण, जो भी पहले लागू हो, पर पूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है। 

प्रतीक्षा अवधि और जीवन कालावधि -

इन्शुरन्स कराने से पहले यह जानना और जांचना बहुत जरूरी है कि आप इन्शुरन्स कवरेज की शरुवात से पहले कितने समय तक प्रतीक्षा करना चाहते हैं साथ ही कैंसर विश्लेषण के बाद की कालावधि या समय जब पॉलिसीधारक को जीवित होना चाहिए ताकि वह इन्शुरन्सकवरेज का पूरा लाभ उठा सके।

अवधि

लम्बे समय तक बीमाधारक को सुरक्षा प्रदान करने वाली पॉलिसी काफी उपयोगी होती है क्योंकि बीमित व्यक्ति को एक विस्तारित अवधि के लिए कवर मिल जाता है।

भारत में सर्वश्रेष्ठ कैंसर इन्शुरन्स का चयन कैसे करें?

पॉलिसीएक्स पर विभिन्न कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स के बारे में जानकारी उपलब्ध है जिनकी आपस में तुलना आप  अपनी आवश्यकता और बीमारी के चरण के आधार पर कर सकते हैं। अधिकांश इन्शुरन्स कंपनियां क्रिटिकल इलनेस प्लान्स प्रदान करती हैं जो कि कैंसर जैसी क्रिटिकल डिजीज के लिए एक सुरक्षित कवर है उस स्थिति में भी जब कैंसर अग्रणी या प्रारम्भ अवस्था में हो। पॉलिसीएक्स न सिर्फ आपको सबसे अच्छी प्लान्स की जानकारी और सलाह देता है बल्कि यदि आप पॉलिसीएक्स ग्राहक सेवा की उचित सहायता का उपयोग करते हैं तो आपको बहुत काम पैसे खर्च करने पड़ेंगे । यदि पॉलिसी धारक का किसी क्रिटिकल डिजीज का चिकित्सा इतिहास रहा है तो वह अपनी मुख्य इन्शुरन्स पॉलिसी प्लान में टॉप अप सुविधा का उपयोग कर सकता है। इसके अलावा भविष्य में किसी क्रिटिकल डिजीज इन्शुरन्स पॉलिसी की जरूरत पड़ने पर इसे अलग से भी चुना जा सकता है।

यदि किसी ने कोई कैंसर की पॉलिसी ना ली हो और अचानक इस बीमारी का पता चले तो यह इतना असहनीय और खचीला है कि अगर आपको अपने प्रियजनों को बचाना है तो आपको अपनी शानदार जीवन शैली छोड़नी पड़ सकती है।.पॉलिसीएक्स के ऑनलाइन पोर्टल से आप जिन कैंसर इन्शुरन्स प्लान्सकी तुलना और चयन कर सकते हैं उनमें से कुछ नीचे दी गई है -

  1. आईसीआईसीआई प्रू कैंसर प्रोटेक्ट

आईसीआईसीआई प्रू कैंसर प्रोटेक्ट प्लान के लिए आपकी उम्र 18 से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए । यह पॉलिसी धारक को कैंसर का पता चलने से लेकर कैंसर के उपचार होने तक कीमोथेरेपी, सीटी स्कैन, अस्पताल में भर्ती होने की फीस, दवा का खर्चा सभी में सहायता करता है।

  1. एचडीएफसी लाइफ कैंसर केयर

एचडीएफसी लाइफ कैंसर पॉलिसी धारकों को सिल्वर, गोल्ड, और प्लैटिनम प्लान्स के अंतर्गत कवर प्रदान करती हैं, जिन्हे ग्राहक अपनी आवश्यकता के अनुसार चयन कर सकते हैं। बीमारी के पता चलने से लेकर संपूर्ण चिकित्सा अवधि में एचडीएफसी लाइफ कैंसर केयर प्लान सहायता करता है। सिल्वर, गोल्ड, और प्लैटिनम प्लान अलग-अलग लाभ प्रदान करते हैं इनकी प्रीमियम राशि भी भिन्न होती है, इसलिए इनमे से किसी भी प्लान को व्यक्ति को समझदारी और आवश्यकतानुसार चुनना चाहिए।

  1. मैक्स लाइफ बूपा कैंसर प्लान

मैक्स लाइफ के कैंसर प्लान कवर में दवा, अस्पताल में भर्ती होने से लेकर पॉलिसी धारक के स्वस्थ होने तक का खर्च भी शामिल है। यह प्लान बीमारी के सभी चरणों को कवर करता है आप अपनी जरूरत और स्थिति की मांग के अनुसार कोई भी प्लान चुन सकते है। अन्य इन्शुरन्स प्लान्स जैसे की जीवन बीमा, यात्रा इन्शुरन्स और मोटर इन्शुरन्स जैसी अनेक प्लान्स की भीड़ में कैंसर इन्शुरन्स प्लान का अपना बहुत महत्व है और  हर व्यक्ति को इसके बारे में जरूर सोचना चाहिए। आज नवीनतम तकनीक के उपयोग से कैंसर का इलाज संभव है, लेकिन कैंसर के उपचार  का खर्च इतना अधिक है कि अगर हम कीमोथेरेपी, विकिरण या रेडिएशन, सर्जरी और अस्पताल में भर्ती होने खर्चे को जोड़ते है तो कुल योग आपके जिंदगी भर की बचत और एक आम आदमी की कमाई से बहुत ज्यादा होगा।

अगर पॉलिसी चुनना आपको पहेली की तरह लगता है तो पॉलिसीएक्स आपकी मदत करेगा यह समझने में की किस इन्शुरन्स कंपनी को चुनना चाहिए और कौन सी पॉलिसी सबसे अच्छी है। आपको प्रीमियम राशि, पात्रता, निर्धारित राशि -न्यूनतम और अधिकतम तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारी और सहायता जैसे बुनियादी प्रश्नों का उत्तर आसानी से उपलब्ध करना ही पॉलिसीएक्स का उद्देश्य है। इन्शुरन्स पॉलिसी की क्लेम प्रक्रिया को समझना आसान नहीं होता है इसलिए पॉलिसीएक्स पॉलिसीधारक को क्लेम की प्रक्रिया को समझने में सहायता प्रदान करता है। 

कैंसर और क्रिटिकल इलनेस राइडर प्लान्स के बीच अंतर

क्रिटिकल कैंसर कवरेज एक विशिष्ट विकल्प है जो किसी विशेष क्रिटिकल डिजीज को कवर करता है और जिसे अतिरिक्त सुरक्षा के लिए मुलभुत या शुरुवाती इन्शुरन्स प्लान से जोड़ा जा सकता है। ये एक महत्वपूर्ण राइडर के रूप में स्ट्रोक, पक्षाघात, मल्टीपल स्केलेरोसिस, अंग प्रत्यारोपण, हृदयाघात, बहरापन, पूर्णअंधापन तथा अन्य और आगे की कई अलग परिस्थितियों के लिए उचित इन्शुरन्स खरीदने का निर्णय लेने में आर्थिक सहायता प्रदान करेगा। ।

बहुत से जानलेवा कैंसर उपचार इन राइडर्स या अलग से शामिल विशिष्ट प्लान्स में सम्मिलित होते है। अधिकतम उदाहरणों में, इन्शुरन्स कंपनी को इस विशिष्ट प्लान के अंतर्गत एकमुश्त राशि का भुगतान करना होगा यदि बीमाधारक विशिष्ट बीमारी जोकि उस प्लान में कवर की गयी थी से संक्रमित पाया जाता है। उस विशिष्ट प्लान में मिली धनराशि या किये गए भुगतान का उपयोग उपचार और संबंधित वैज्ञानिक शुल्क के रूप में किया जा सकता है।

कॉम्प्रिहेंसिव थेरेपी हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसियों के विपरीत विशेष और क्रिटिकल डिजीज या लक्षण कवर करने वाले प्लान बहुत अधिक महंगे होते हैं क्योंकि ये कुछ आवश्यक स्थितियों के लिए सबसे अच्छी कवरेज प्रदान करते है। इन विशेष राइडर्स या प्लान्सको अतिरिक्त रूप में खरीदा जा सकता है और मौजूदा हेल्थ या जीवन इन्शुरन्सनियमों से जोड़ा जा सकता है। हालांकि, क्रिटिकल डिजीज को कवर करने वाले इन विशेष प्लान्स की कुछ खामियां या कमियों में से एक यह है कि वे आम तौर पर कैंसर के सभी स्तर को कवर करते हैं परन्तु केवल उसी परिस्थिति में जब या तो घातक ट्यूमर कोशिकाओं में अनियंत्रित वृद्धि हो रही हो या रोजमर्रा के ऊतकों के आक्रमण से बचाव की बात हो।

इसके अलावा, ये प्लान्स भविष्य के होने वाले खर्चो में छूट प्रदान नहीं करते हैं, जो आप किसी अन्य चिकित्सा इन्शुरन्स प्लान से प्राप्त कर रहे थे। यदि पॉलिसीधारक को विशेष प्लान में शामिल की जाने वाली किसी भी बीमारी से पहले से ग्रसित पाया जाता है तो प्लान की वैद्यता समाप्त कर दी जाती है। दूसरी ओर, अधिकांश कैंसर इन्शुरन्स प्लान्स, कैंसर के प्रत्येक चरण के लिए व्यापक इन्शुरन्स की सलाह देते है, यह सुनिश्चित करने के लिए की पॉलिसीधारक को आर्थिक सुरक्षा प्राप्त होती रहे और जरूरत पड़ने पर किसी भी अन्य मामले में उपचार और उपचार के विकल्पों पर खर्च किया जा सके।

एक कैंसर इन्शुरन्स प्लान में क्या सम्मिलित नहीं होता है

निम्नलिखित एक कैंसर इन्शुरन्स प्लान में शामिल नही किया गया है

  • सभी प्रकार के त्वचा कैंसर।
  • पहले से मौजूद या जन्मजात परिस्थितियों के परिणामस्वरूप हुआ कैंसर; रासायनिक, जैविक या परमाणु संक्रमण; किसी भी चिकित्सीय या जाँच में पता ना चलने वाले ​​स्रोत से रेडियोधर्मिता या विकिरण के साथ स्पर्श।
  • किसी भी प्रकार के कैंसर जो यौन संचारित रोगों, एड्स या एचआईवी का सीधा या परोक्ष परिणाम हो।
  • ल्यूकेमिया।
  • थायरॉयड का पैपिलरी माइक्रोकार्सिनोमा।

कैंसर इन्शुरन्स प्लान में क्लेम कैसे करें

हर इन्शुरन्स कंपनी के क्लेम या दावा और उसके भुगतान की प्रक्रिया अलग-अलग हो सकती है इसलिए आपको एग्रीमेंट में दिए गए नियमों का पालन करना चाहिए: 

क्लेम की सूचना: इससे पहले कि आप अपना वास्तविक दावा दर्ज करें, उससे पहले आपको अपने बीमाकर्ता से संपर्क करके उन्हें स्थिति की अग्रिम सूचना देनी होती है। आप यह जानकारी इन्शुरन्स कंपनी के किसी भी विश्वसनीय केयर चैनलों पर उपलब्ध व्यक्ति से साझा कर सकते है।

आप कंपनी की बीमाकर्ता सहायता लाइन्स की जानकारी उनकी वेबसाइट या ब्रॉउचर या विवरणिका पर आसानी से पा सकते हैं। दावे के बारे में बीमाकर्ता को सूचित करने के बाद आपको सभी सहायक चिकित्सा फाइलों को इन्शुरन्स कंपनी को प्रस्तुत करना होता है। सभी इन्शुरन्स फर्म सामान्य तौर पर समयसीमा की जानकारी प्रदान करती हैं कि किस अवधि के अंदर उन्हें आगामी दावे के बारे में अवगत करा देना चाहिए।

क्लेम की जाँच प्रक्रिया: जब बीमाकर्ता को आपकी सभी फाइलें मिल जाती हैं, तो एक मूल्यांकनकर्ता उसकी जाँच करता है और इस बात की पुष्टि करता है की यह आपके कवरेज के दायरे में आता है या नहीं। यदि कोई अतिरिक्त फाइल या जानकारी की आवश्यकता हो तो बीमाकर्ता पॉलिसीधारक को पत्र / ईमेल / या एसएमएस के माध्यम से जानकारी प्रदान करने के लिए कह सकता है।

क्लेम का निपटान: सभी जरूरी दस्तावेजों के जाँच के बाद, बीमाकर्ता पॉलिसीधारक के दावे के विषय में अपना निर्णय बताती है। बीमाकर्ता या तो दावे को मंजूरी देकर राशि का भुगfiतान कर सकता है, समान दस्तावेज की फिर से मांग कर सकता है, दावे को अस्वीकार करके संबंधित व्यक्ति को कारण की जानकारी भेज सकता है। अधिकांश इन्शुरन्स कंपनियां आमतौर पर एनईएफटी या ईसीएस के माध्यम से दावा राशि का भुगतान करती हैं।

कैंसर पॉलिसी और वो सब जो आपको पता होना चाहिए

एक दस्तावेज के अनुसार हर साल 10 लाख से अधिक मनुष्यों में कैंसर के लक्षण की पहचान की जाती है और उसमे से 60% से 70% से अधिक, यानी करीब 6 से 7 लाख लोग इस बीमारी के शिकार होते हैं। । लगभग सभी कॉम्प्रिहेंसिव इन्शुरन्स कवरेज, कैंसर के रोगियों को होने वाली आर्थिक बाधाओं को कम  करके उन्हें सहायता प्रदान करते है, लेकिन, इसके सबसे सरल और संपूर्ण निदान को ध्यान में रखते हुए और अधिकांश कैंसर रोगियों की सहायता के लिए लाइफ इन्शुरन्स निगम ने विशेष प्लान्स  निकाली हैं। 

इस चरण में, हम कैंसर कवरेज पॉलिसी क्या है और उससे जुडी कुछ बातों की चर्चा करेंगे। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, ये एक कॉम्प्रिहेंसिव हेल्थ इन्शुरन्स  कवरेज के समान नहीं है क्योंकि इन दोनों में प्रदान की जाने वाली सुविधाएँ और नियम बिल्कुल अलग है। अगर आप इस विषय में नए है तो समझ लीजिये की, अधिकांश कैंसर रोगियों के लिए जो कैंसर इन्शुरन्स पॉलिसी कवर उपलब्ध है उसमे सभी प्रकार के कैंसर सम्मिलित है। वहीँ दूसरी तरफ, एक कॉम्प्रिहेंसिव इन्शुरन्स प्लान व्यक्ति को कई प्रकार की बिमारियों के विरुद्ध सुरक्षा प्रदान करता है।

कैंसर इन्शुरन्स आपको बीमारी के सभी स्तरों के लिए कवर करते हैं और संक्रमण का पता चलने पर एकमुश्त राशि का भुगतान कर सकते हैं। पॉलिसीधारक को भुगतान हेतु दो विकल्प उपलब्ध होते है और वो उनमे इस किसी भी एक तरीके से भुगतान पा सकता है: एकमुश्त कवर या मासिक भुगतान के साथ एकमुश्त कवर। इसके अतिरिक्त, यदि व्यक्ति बीमारी के पहचान के समय पॉलिसी खरीदता है, तो कुछ प्लान्स कुछ समय सीमा या महीनो के लिए प्रीमियम को माफ कर देते हैं परन्तु इन्शुरन्स और उससे जुडी सुविधाएँ बरकरार रहती है।

यह अन्य जटिल हेल्थ प्लान्स की तुलना में सरल और जयादा कवरेज की सुविधा देता है। हालाँकि जटिल हेल्थ प्लान्स  अपेक्षाकृत कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करते है, परन्तु कैंसर-विशेष प्लान बहुत बेहतर कवरेज देता है और जिसमे अस्पताल में भर्ती होने से लेकर स्वस्थ होने का प्रारंभिक चरण भी शामिल है। इसके अलावा, यह पॉलिसीधारकों को सुविधा के अनुसार भुगतान चुनने की आजादी भी देता है जो काफी फायदेमंद है। इसके विपरीत क्रिटिकल इलनेस प्लान में यह विकल्प नहीं होता।

60 वर्ष की आयु से पहले लेना बेहतर होता है: जैसा कि आप समझ सकते है की समय के साथ नई परेशानियाँ या रोग भी आने लगते है यही कारण है की वृद्ध या ज्यादा उम्र के व्यक्ति की इन्शुरन्स का प्रीमियम ज्यादा होता है। अतःयदि आप एक कैंसर-विशेष प्लान को लेने का निर्णय लेते हैं, तो देर ना करते हुए और 60 वर्ष की आयु से पहले, अधिकतम खर्च को कम करना सुनिश्चित करें।

हर साल लगातार बढ़ते हुए कैंसर पीड़ितों को देखते हुए, आपको एक कैंसर-विशेष प्लान के बारे में विचार करना ही चाहिए। विशेष रूप तब जब आप धूम्रपान करते हों या कैंसर कारक वस्तुओं का उपयोग करते हों। इसलिए, स्वयं को अवांछित आपात स्थितियों से बचाने के लिए ऐसी किसी भी प्लान की जानकारी लेकर निवेश करना ना भूलें। वैसे भी कहते है ना की पछताने से अच्छा है पहले ही इंतजाम कर लेना चाहिए और क्यूँकि अभी देर नहीं हुई है-

कैंसर इन्शुरन्स पॉलिसी के लिए आवश्यक दस्तावेज

यदि आप ऑनलाइन हेल्थ इन्शुरन्स खरीदने का फैसला करते है, तो आपको निम्नलिखित दस्तावेज प्रस्तुत करने की आवश्यकता पड़ेगी:

  1. आयु प्रमाण - जन्म प्रमाण पत्र, 10 वीं या 12 वीं की अंकतालिका, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र आदि में से कोई भी एक।
  2. पहचान प्रमाण - ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, पैन कार्ड, आधार कार्ड
  3. 3. निवास का प्रमाण - बिजली बिल, टेलीफोन बिल, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, जिसमे स्पष्ट रूप से स्थायी पते का उल्लेख हो
  4. कुछ प्लान्स में 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए चिकित्सा जांच की जरुरत होती है जिससे यह  सुनिश्चित किया जा सके कि बीमित व्यक्ति किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित न हो।
  5. पासपोर्ट साइज फोटो - भविष्य में पहचान हेतु

कुछ आसान चरणों में कैंसर इन्शुरन्स ऑनलाइन खरीदें

यदि आपने हेल्थ इन्शुरन्स ऑनलाइन खरीदना चाहते है, तो आपको कुछ दस्तावेज प्रदान करने होंगे: 

  1. यह बहुत आसान है और किसी कागजी कार्रवाई की जरूरत नहीं
  2. २. एक इन्शुरन्स लेने में 10 मिनट से भी कम समय लगता है।
  3. एक सबसे अच्छी इन्शुरन्स प्लान खोजने के लिए बस अपनी आवश्यकता और पसंद के अनुसार कुछ जानकारियों का विवरण दर्ज करें।
  4. 30 सेकंड से कम समय में विभिन्न कंपनियों की प्लान्स की तुलना करके अपने लिए एक बेहतरीन प्लान चुने।
  5. बुद्धिमतापूर्वक एक ऐसी प्लान चुनें जो आपके आवश्यकता के मानदंडों को पूरा करे।
  6. 5 मिनट में ऑनलाइन फॉर्म भरें जिसमे आपसे कुछ बुनियादी विवरण मांगे जाते है जो भविष्य में काम आ सकते है
  7. अपने दस्तावेज़ अपलोड करें और उस प्लान के लिए भुगतान करें जिसे आपने चुना हैं।
  8. बधाई हो, अब आप पॉलिसी के तहत सुरक्षित है।

- / 5 ( Total Rating)

हेल्थ इन्शुरन्स कंपनियां