Sehwag PX
न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स
  • कार की क्षति से सुरक्षा
  • व्यक्तिगत दुर्घटना के खिलाफ कवरेज
  • 1,00,000 + संतुष्ट ग्राहक

#Virukipolicy | T&C*

प्रीमियम की तुलना करें

1

2

कार का नाम
कार के प्रकार
आरटीओ कोड
पंजीकरण की तारीख
जारी रखें

न्यू इंडिया इन्शुरन्स कंपनी लिमिटेड 23 जुलाई 1919 को हाउस ऑफ टाटा के जनक सदस्य- सर दोराब टाटा द्वारा स्थापित की गयी थी. संगठन का अन्य कंपनियों के साथ मिलाप करके 1973 को राष्ट्रीकरण किया गया. एनआइए कुल प्रीमियम संकुलन के आधार पर जिसमे कि विदेशी संचालन भी शामिल है,भारत की सबसे बड़ी जनरल इन्शुरन्स कंपनी है. यह पहली भारतीय नोन-लाइफ कंपनी है जिसका कुल प्रीमियम 14304 रुपयों तक पहुँचा है. कंपनी का विदेशों जैसे कि जापान,यूके,मध्यपूर्व,फिजी और ऑस्ट्रेलिया में भी संचालन है. यह पहले जनरल इन्शुरन्स कंपनी ऑफ इंडिया की सहायक थी. 

मोटर इन्शुरन्स वो ज़रूरी दस्तावेज़ है जो ड्राइविंग के समय व्हिकल के मालिक को साथ में रखना चाहिए. भारतीय क़ानून के तहत भारत में मोटर इन्शुरन्स का होना अनिवार्य है. जो कोई भी बिना इन्शुरन्स पॉलिसी के गाड़ी चलता है उसे भारी दंड भरना पड़ता है. यह व्हिकल को आपातकाल में आर्थिक सुरक्षा प्रदान करता है. 

न्यू इंडिया मोटर इन्शुरन्स अपनाने का महत्व

आपकी मोटर व्हिकल घर के पश्चात आपकी दूसरी सबसे मूल्यवान और कीमती वस्तु है और आजकल की कार्यशैली और दफ़्तर पहुँचने में, परिवहन में लगने वाले समय को देखते हुए,जब आप उसमे इतना समय व्यतीत करते हैं तो यह आपके दूसरे घर के समान है. तो जब व्हिकल आपकी रोज़मर्रा की ज़िंदगी का इतना आवश्यक भाग है,तो क्या आपको नही लगता कि इसके बदले उसे इन्शुरन्स देना सबसे बेहेतरिन चीज़ होगी? वैसे भी भारत में मोटर व्हिकल एक्ट के अंतर्गत मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी का होना अनिवार्य है. 

गाड़ी द्वारा परिवहन में कभी भी ,कई ख़तरे हो सकते हैं जो बिना चेतावनी आ जाते हैं और आपकी जेब पर भारी पड़ सकते हैं. ऐसी दुर्घटनाओं में मोटर इन्शुरन्स आपकी अर्थव्यवस्था को सहारा देता है और कवरेज प्रदान करता है. एक कोम्प्रिहेन्सिव मोटर इन्शुरन्स प्लान आपकी व्हिकल को लायबिलिटी और नुकसान दोनो के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है. 

आपकी व्हिकल को इंश्योर कराना और विद्यमान पॉलिसी को रिन्यु कराना बहुत आवश्यक है. जब विद्यमान पॉलिसी को रिन्यु कराने की बात हो तो यह ज़रूरी है कि आप उसकी अंतिम तिथि गुजरने से पहले याद रखें, क्योंकि यदि आप भूल जाते हैं तो आप ऐसी कई सुविधाएँ खो सकते है जो नियमित रिन्युअल पर प्राप्त हो सकती हैं. यदि आप बिना किसी परेशानी के व्हिकल चलाना चाहते हैं तो मौजूदा पॉलिसी को रिन्यु कराना आवश्यक है. रिन्युअल के समय सर्वोत्तम सौदा पाने के लिए,आप मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी की तुलना कर सकते हैं जो आपको ऑनलाइन सबसे सस्ती मोटर इन्शुरन्स चुनने में सहायता कर सकता है. 

यह मत भूलिए की आपकी मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी की वैधता एक निर्धारित समय के लिए होती है. यह आपकी मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी की खरीद की तारीख पर निर्भर करता है.जैसे ही यह अवधि समाप्त होती है आपको अपनी मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी के समापन से पहले उसे रिन्यु कराना चाहिए. 

जब आप अपनी विद्यमान मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी रिन्यु करा रहे हों,आपको सर्वोत्तम सौदा चुनना चाहिए. कभी कभी यदि आपकी व्हिकल मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी की मूल अपेक्षाओं पर खरी ना उतरे तो रिन्युअल का खर्चा ज़्यादा हो सकता है. आप यह चीज़ ऑनलाइन या ऑफलाइन परख सकते हैं. ऑनलाइन उपलब्ध मोटर इन्शुरन्स पॉलिसियों की तुलना करके आप सबसे किफायती मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी ले सकते हैं. 

एक बार आपकी पॉलिसी रिन्युअल ना कराने के कारण लॅप्स हो गयी तो आपको क़ानूनी दायरे में रहने के लिए नयी मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी लेनी पड़ सकती है. आपको दंड भी भरना पड़ सकता है ,जितने दिन तक मोटर इंश्योर्ड नही थी उसके आधार पर. 

मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी के बिना गाड़ी चलाना ख़तरनाक हो सकता है क्योंकि आपको कई प्रकार के दंड भरने पड़ सकते हैं ,साथ ही दुर्घटना के कारण हुए नुकसान का खर्च भी बढ़ सकता है और क़ानून का पालन ना करने के कारण अधिकारियों से दंडित होंगे सो अलग. 

इसलिए समय रहते अपनी विद्यमान मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी को रिन्यु करना ज़रूरी है ताकि आप भविष्य में आने वाली विपदाओं से बच सकें. साथ ही इस बात को निश्चित कर लें कि आप पर्याप्त कवरेज लें और इसके लिए बेहेतरिन सौदा करें.  

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स में प्लांस के प्रकार

न्यू इंडिया इन्शुरन्स प्रभावी और सहायक मोटर इन्शुरन्स उत्पादों की एक शृंखला प्रदान करता है जो आपकी मूल ज़रूरतों को पूरा करते हैं. इसमे वे सारी विशेषताएँ हैं जो एक मोटर इन्शुरन्स प्लान में होनी चाहिए. 

कार इन्शुरन्स

इसके अंतर्गत आप दो प्रकार के कवरेज पा सकते हैं- लायबिलिटी और पैकेज कवरेज. दोनो ही अपने तरह से आपकी सहायता करते हैं. 

केवल लायबिलिटी पॉलिसी: यह थर्ड पार्टी लायबिलिटी के अंतर्गत शारीरिक क्षति और/ या मृत्यु या संपत्ति के नुकसान को कवर करती है. इसमे मालिक-ड्राइवर के लिए पर्सनल एक्सिडेंट कवर भी सम्मिलित हैं. 

पैकेज पॉलिसी: यह लायबिलिटी कवर के अलावा इंश्योर्ड व्हिकल को हुए नुकसान या हानि को भी कवर करता है. 

कमर्शियल व्हिकल

यह पॉलिसी सामान्य सड़कों पर चलने वाले हर प्रकार के कमर्शियल व्हिकल को कवर करती है. 

केवल लायबिलिटी पॉलिसी: यह थर्ड पार्टी लायबिलिटी की शारीरिक क्षति और/ या मृत्यु और संपत्ति को हुए नुकसान को कवर करता है. मालिक-ड्राइवर के लिए पर्सनल एक्सिडेंट कवर भी इसमे शामिल है. 

पैकेज पॉलिसी: यह लायबिलिटी कवर के अलावा इंश्योर्ड व्हिकल को हुए नुकसान या हानि को भी कवर करता है. 

न्यू इंडिया इन्शुरन्स- विशेषताएँ और सुविधाएँ

ग्राहक सहायता टीम: न्यू इंडिया इन्शुरन्स की सबसे अच्छी विशेषता है इसकी प्रशिक्षित ग्राहक सेवा टीम जो हमेशा आपकी शंका और दुविधा दूर करने के लिए उपस्थित है. यह बीमाधारक को क्लेम जमा करने,पॉलिसी का आवेदन भरने और उसे रिन्यु कराने में भी सहायता करती है. 

डिसकाउंट: जो लोग ऑटोमोबाइल असोसियेशन ऑफ इंडिया के सदस्य हैं वो विशेष छूट के पात्र हैं. जिनकी व्हिकल में चोरी प्रतिकारक यंत्र लगे हैं वो भी अतिरिक्त छूट के योग्य हैं. 

परेशानी रहित क्लेम सेटलमेंट: क्लेम्स बहुत ही जलद गति से बिना परेशानी के सेटल हो जाते हैं. आपातकालीन परिस्थिति में क्लेम की शुरुआत करने की प्रक्रिया भी बहुत ही सुलभ है.  

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स के समावेशन और अपवाद

समावेशन

अपवाद

इन कारणों से हुआ नुकसान या हानि: 

*आग,धमाके, और आत्म-प्रज्वलन. 

*नैसर्गिक आपदाएँ जैसे बाढ़,तूफान,भूस्खलन,भूकंप,रोकस्लाइड,आँधी,बिजली 

जब इंश्योर्ड अपनी व्हिकल को निर्धारित उपदेशों के विपरीत इस्तेमाल करता है. 

चोरी,डकैती और अन्य मानव जनित कारणों जैसे हड़ताल,दंगे,आतंकवादी गतिविधियों,बाह्य कारणों से हुई दुर्घटना से हुआ नुकसान. 

नशे के कारण हुई दुर्घटना. 

रोड,रेल,हवाई यात्रा,एलिवेटर या अंतर्देशीय जलमार्ग आदि द्वारा सफ़र के दौरान हुआ नुकसान. 

अपनी लापरवाही से हुई दुर्घटना 

क्षति,मृत्यु या अन्य हानि के रूप में थर्ड पार्टी लायबिलिटी. 

मेकैनिकल या इलेक्ट्रिकल खराबी 

पर्सनल एक्सिडेंट कवर 

परमाणूवीय ख़तरों के कारण हुआ नुकसान 

इलेक्ट्रिकल या नोन इलेक्ट्रिकल पुर्जों के कारण हुई हानि. 

युद्ध संबंधी ख़तरे 


जो प्रवासी किराया नही भरते उनके लिए क़ानूनी लायबिलिटी. 

पारणामिक नुकसान 

 

समझौते के तहत लायबिलिटी 

 

चोरी से पुर्जों से हुआ नुकसान 

 

भौगोलिक क्षेत्र के बाहर गाड़ी का चलाया जाना. 

 न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स का ऑनलाइन आवेदन भरने की आसान प्रक्रिया

  • कंपनी वेबसाइट पर लॉगइन करके मोटर कार इन्शुरन्स विभाग पर जाइए. 
  • विवरण पाने के लिए 'ऑनलाइन खरीद'का सूत्र चुने और ऑनलाइन खरीदारी कीजिए. 
  • क्लिक करने पर आप एक पेज की ओर निर्देशित किए जाएँगे जहाँ आपको सारी निजी जानकारी भरनी होगी और आप इन्शुरन्स प्राप्त कर सकते हैं. 
  • यदि आप दर से सहमत हों तो आप भुगतान कर सकते हैं, इसके बाद पॉलिसी तुरंत खरीददार को भेज दी जाएगी. 
  • यदि कोई दुविधा हो तो आप टोलफ्री नंबर पर पूछताछ कर सकते हैं. 

न्यू इंडिया कार इंशूरन्स ही क्यों?

  • सरकार अधिकृत 
  • सरल ऑनलाइन खरीद 
  • तत्काल रिन्युअल 
  • छूट का मेज़बान 
  • नो क्लेम बोनस 
  • एडओन कवर्स की विस्तृत शृंखला 

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स के एडओन कवर्स 

आइए, न्यू इंडिया की तरफ से मिलने वाले एडओन कवर्स पर एक नज़र डालें: 

ज़ीरो डेप्रिसिएशन: यह क्लेम के दौरान व्हिकल के डेप्रिसिएशन के कारण हुए नुकसान पर भी बीमाधारक को कवर प्रदान करता है. डेप्रिसिएशन कार से संबंधित पुर्जों को कवर करता है और किसी भी एक्सिडेंट या अन्य दुर्भाग्यपूर्ण घटना के चलते,बीमाधारक सारे खर्चे पाने का पात्र है डेप्रिसिएशन की परवाह किए बिना. 

रोड टैक्स कवर: इंश्योर्ड कार के 3 साल होने तक इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं. यह मूलतः निर्माता के मूल्य और आइडीवी के बीच के अंतर वाली राशि को कवर करता है. इसके अंतर्गत व्यक्ति 20 लाख तक की राशि का कवर पा सकते हैं.

नो क्लेम बोनस: यह आपको हर क्लेम रहित वर्ष पर मिलता है. ग्राहक को यह सुविधा तब तक मिलती रहेगी जब तक उसकी कार 7 साल पुरानी हो जाए,उसके पश्चात नही.

टोईंग के खर्चे: यदि आपातकाल में आप टोईंग की सहायता चाहते हों तो,इसका खर्चा इन्शुरन्स कंपनी उठा लेगी. यदि आप इस एड-ओन सेवा को चुनते हैं. इस सुविधा के अंतर्गत आप अधिकतम 10,000 रुपये क्लेम कर सकते हैं.

समान की सुरक्षा: इसके अंतर्गत एक्सिडेंट या अन्य किसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना के समय कार में स्थित आपके समान पर भी क्लेम किया जा सकता है. निजी वस्तुएँ जैसे मोबाइल फोन,लैपटॉप,कपड़े,गहने,चाबियाँ इत्यादि. इस कवर विकल्प के अंतर्गत अधिकतम 20,000 रुपये क्लेम किए जा सकते हैं.

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स की क्लेम प्रक्रिया

क्लेम कुछ हद तक आपके द्वारा भरे गये क्लेम फॉर्म पर निर्भर करता है. यह एक्सिडेंट,चोरी,नैसर्गिक आपदा,मानव जनित हानि या थर्ड पार्टी द्वारा हुए नुकसान पर निर्भर करता है. इंश्योर्ड क्लेम जमा करने के लिए,इंशोरर को सूचित करना होता है और मूल दस्तावेज़ तैयार रखने होते हैं. कैशलेस गराज़ों की विस्तृत शृंखला पर भी क्लेम किए जा सकते हैं,जहाँ ग्राहक कार चलाकर या टो करके रिपेअर के लिए ले जा सकते हैं.

कैशलेस गराज के तहत,इन्शुरन्स कंपनी इंश्योर्ड की जगह सीधे गराज को ही भुगतान करती है. अदायगी की सूरत में जो भी खर्चे हों वो इन्शुरन्स पॉलिसी के तहत क्लेम किए जा सकते हैं. एक्सिडेंट,चोरी या शारीरिक क्षति की सूरत में ,यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि पोलीस को सूचित करे और नज़दीकी पोलीस स्टेशन में एफआइआर लिखवाए. क्लेम जमा करते समय निम्नलिखित दस्तावेज़ साथ में रखें:

  • ड्राइविंग लाइसेन्स
  • पंजीकरण बुक
  • पॉलिसी का विवरण
  • एफआइआर ,यदि ज़रूरी हो

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स की कैशलेस क्लेम प्रक्रिया

एक नज़र कैशलेस क्लेम प्रक्रिया पर

  • इन्शुरन्स कंपनी को सूचित करें
  • पॉलिसी का विवरण दें
  • जिस सेवा का लाभ उठाया गया हो उसके प्रति भुगतान न्यू इंडिया सीधे गराज को कर देगी.

न्यू इंडिया कार इन्शुरन्स की क्लेम के प्रति अदायगी प्रक्रिया

  • इन्शुरन्स कंपनी को सूचित करें
  • सभी बिल,इन्वाइस तथा खर्चे संबंधित काग़ज़ात जमा करने के लिए तैयार रखें
  • बिल के साथ फॉर्म जमा करें
  • अदायगी 7 कार्यशील दिनों में हो जानी चाहिए.