Sehwag PX
रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स
  • बाइक की क्षति से सुरक्षा
  • व्यक्तिगत दुर्घटना के खिलाफ कवरेज
  • 1,00,000 + संतुष्ट ग्राहक

#Virukipolicy | T&C*

प्रीमियम की तुलना करें

1

2

टू व्हीलर का नाम
टू व्हीलर के प्रकार
आरटीओ कोड
पंजीकरण की तारीख
जारी रखें

जब आप रास्ते में होते हैं तो कोई गारंटी नहीं होती कि किस पल में कौनसी दुर्घटना हो जाए, इसलिए यह सबसे अच्छा होता है कि आप हर संभावित समस्या के लिए जो कहीं से भी आ सकती है, तैयार रहें।

वे लोग जिनके पास टू व्हीलर जैसे मोटरसाइकिल, स्कूटर या ऐसे वाहन होते हैं या चलाते हैं आमतौर पर माना जाता है कि उनके किए दुर्घटना का खतरा ज़्यादा होता है - जिससे वाहन और चालक दोनों को नुकसान पहुँचता है। इसीलिए रोयल सुंदरम ने आपके वाहन की दुर्घटना की स्थिति में होने वाली क्षति के सारे खर्चों को कवर करने का समाधान बनाया है, और रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स के बारे में सारी जानकारी यहां उपलब्ध है।

इन्शुरन्स के क्षेत्र में रॉयल सुंदरम जनरल इन्शुरन्स एक जाना माना नाम है, और अच्छे कारणों से, क्योंकि वे जानते हैं वे क्या कर रहे हैं। सुंदरम फाइनेंसिस की एक सहायक कंपनी, रॉयल सुंदरम जनरल इन्शुरन्स दरअसल, अक्टूबर  2000 में आईआरडीए द्वारा लाइसेंस प्रदान किए जाने वाली पहली कंपनियों में से एक थी।

कंपनी कई तरह की इन्शुरन्स प्रदान करती है जैसे हेल्थ इन्शुरन्स, होम इन्शुरन्स, मोटर इन्शुरन्स और साथ ही पर्सनल इन्शुरन्स और ट्रेवल इन्शुरन्स।

ये इन्शुरन्स रॉयल सुंदरम द्वारा व्यक्तियों, कॉर्पोरेट बिज़नेस और परिवारों को सीधे तौर पर या पार्टनरों के माध्यम से वितरित की जाती हैं। लोगों की ज़रूरतों और मांगों के साथ काम करने का दस साल से ज़्यादा का अनुभव होने के कारण, यह सुरक्षित तौर पर कहा जा सकता है कि रॉयल सुंदरम की सभी इन्शुरन्स पॉलिसियां उन्हीं ज़रूरतों और मांगों को पूरा करने के हिसाब से बनाई गई हैं।

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स क्यों खरीदना चाहिए

इस तथ्य के अलावा कि टू व्हीलर इन्शुरन्स आपको अप्रत्याशित घटनाओं में सुरक्षा प्रदान करती है, रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स में निवेश करने के और कई अतिरिक्त लाभ हैं। आपको क्यों रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स क्यों खरीदनी चाहिए उसके मुख्य कारण हैं:

  • रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स ऐसी इन्शुरन्स पालिसी है जो आपके वाहन को एक इन्शुरन्स में पूरे तीन साल तक का कवर प्रदान करती है।
  • ग्राहक अपनी मौजूदा इन्शुरन्स पॉलिसी का अतिरिक्त दो से तीन साल तक के लिए नवीनीकरण भी कर सकता है। मौजूदा पॉलिसी  किसी भी इन्शुरन्स कंपनी की हो सकती है।
  • रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स आपके वाहन और एक्सेसरीज को पूरी और कम्प्रेहैन्सिव कवरेज प्रदान करती है, और आपको किसी या सभी शामिल थर्ड पार्टियों की संपत्ति और।या जान को होने वाले नुकसान से भी सुरक्षा प्रदान करती है।
  • अगर आप कभी किसी दूसरी इन्शुरन्स कंपनी में शिफ्ट करना चाहें तो रॉयल सुंदरम से अपनी पसंद की किसी दूसरी इन्शुरन्स कंपनी में शिफ्ट करना बहुत ही आसान है, आप एक घोषणापत्र देकर यह ऑनलाइन भी कर सकते हैं।
  • क्लेम भरने के दस कार्य दिवसों के अंदर सभी क्लेम सेटलमेंट देख लिए जाते और सफलतापूर्वक पूरे कर लिए जाते हैं।

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स की मुख्य विशेषताएं और लाभ

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स बड़े ध्यान से बनाई जाती हैं और बहुत से लाभों के साथ आती हैं जो उनके लिए आदर्श हैं जिनके पास टू व्हीलर हैं। ऐसी कुछ विशेषताएं और लाभ जो रॉयल सुंदरम इन्शुरन्स पॉलिसियों द्वारा प्रदान किए जाते हैं ये हैं:

  • ग्राहकों को एक बार भुगतान का विकल्प मिलता है, जिसका मतलब है यदि वे चाहें तो हर महीने की परेशानी से बचने के लिए पॉलिसी की अवधि के अपने सभी प्रीमियम का भुगतान पॉलिसी की शुरुआत में ही कर सकते हैं।
  • रॉयल सुंदरम टू व्हीलर पॉलिसी आपके वाहन को एक पॉलिसी में तीन साल तक का कवर प्रदान करती है, जिसका मतलब है कि आप हर साल पॉलिसी के नवीनीकरण के झंझट को अलविदा कह सकते हैं।
  • आपका नो क्लेम बोनस हर समय सुरक्षित रहता है। इसका मतलब अगर कोई ग्राहक पालिसी की पूरी अवधि में एक बार क्लेम लेता है तो जिस नो क्लेम बोनस का वह हक़दार है वह प्रभावित नहीं होता।
  • टू व्हीलर्स के लिए रॉयल सुंदरम इन्शुरन्स आपको पॉलिसी की अवधि के लिए महंगाई से भी सुरक्षा प्रदान करती है। अगर थर्ड पार्टी के प्रीमियम में बढ़ोतरी होती भी है, आपकी पालिसी के प्रीमियम में कोई बदलाव नहीं होता।
  • अपनी रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स पॉलिसी के साथ आपको बहुत सारे दस्तावेज़ों का ध्यान नहीं रखना पड़ता। पॉलिसी की शुरुआत में आपको एक दस्तावेज़ दिया जाता है और पॉलिसी की दो या तीन साल की पूरी अवधि में वही दस्तावेज़ वैध होता है।

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स कवरेज

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स आपको प्रकृतिक आपदाओं और साथ ही मानवीय आपदाओं के लिए भी कवरेज  प्रदान करती है। प्राकृतिक आपदाओं में बाढ़, भूकंप, तूफ़ान, चक्रवाती तूफ़ान, भूस्खलन, जलभराव, धमाके, अंधड़, ओलावृष्टि, झंझावात और पत्थर खिसकने जैसी घटनाएं शामिल हैं।

दूसरी तरफ मानवीय आपदाओं में चोरी, डकैती, सेंधमारी, आतंकी हमला, बाहरी एजेंटों द्वारा दुर्घटना, सड़क,जल, वायु, रेल या लिफ्ट से कहीं ले जाते हुए क्षति होना शामिल हैं।

पालिसी किसी थर्ड पार्टी को होने वाली शारीरिक चोट (या मृत्यु) की स्थिति में असीमित लायबिलिटी कवरेज प्रदान करती है। थर्ड पार्टी की संपत्ति को नुकसान की स्थिति में क्षतिपूर्ति की राशि की सीमा एक लाख रुपये है। पॉलिसीधारक को एक लाख रुपये तक का पर्सनल एक्सीडेंट कवर भी प्रदान किया जाता है।

यदि आप ऑटोमोबाइल एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया के सदस्य हैं तो आपको ओन डैमेज प्रेमियमपर 5% छूट मिलेगी। रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स पालिसी पिछली सीट के सवार को भी कवर प्रदान करती है।

रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स का क्लेम कैसे लें

प्रोविद रॉयल सुंदरम टू व्हीलर इन्शुरन्स पालिसी के साथ जो प्राथमिक विशेषताएं आती हैं,उनसे पॉलिसी के पैसे को पाना उतना ही आसान है जितना इन्शुरन्स पॉलिसी खरीदना। क्लेम के लिए आवेदन ईमेल या टेलीफोन द्वारा फाइल किया जा सकता है, और अपनी पॉलिसी से संबंधित सभी उचित विवरण देना ज़रूरी होता है।

  1. इन्शुरन्स कंपनी के एजेंट द्वारा जांच से पहले वाहन में कोई मरम्मत नहीं करवाई जा सकती।
  2. पॉलिसीधारक द्वारा क्लेम फाइल करने के बाद वाहन की जांच की व्यवस्था की जाती है। जांच पूरी होने के बाद वाहन में ज़रूरी मरम्मत और उस पर आने वाले खर्चे के अनुमान का विवरण पॉलिसीधारक को बता दिया जाता है।
  3. क्लेम के आवेदन के सत्यापन के लिए ग्राहक को वाहन का ओरिजिनल रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और वाहन के मालिक का ओरिजिनल ड्राइविंग लाइसेंस इन्शुरन्स कंपनी को देना ज़रूरी है, जो बाद में ग्राहक को लौटा दिया जाता है।
  4. ग्राहक को भरा हुआ क्लेम फॉर्म अपने हस्ताक्षर के साथ कंपनी और/या सर्वेयर को देना ज़रूरी है। जिन वाहनों के मालिक कॉर्पोरेट बिज़नेस हैं उनके क्लेम फॉर्म पर कंपनी की मोहर होनी चाहिए।
  5. इन्शुरन्स कंपनी क्लेम की प्रक्रिया के दौरान जब भी ज़रूरी हो अतिरिक्त दस्तावेज़ों की मांग करने के लिए अधिकृत है। साथ ही, एक बार मरम्मत पूरी होने के बाद, वाहन को दुबारा जांच के लिए लाने की ज़रूरत भी पड़ सकती है।
  6. इन्शुरन्स पॉलिसी के अंतर्गत भरपाई के लिए, सत्यापन और आगे की प्रक्रिया पूरी करने के लिए, इन्शुरन्स कंपनी को ओरिजिनल कैश बिल या इनवॉइस देनी होगी।

- / 5 ( Total Rating)